सरकार ने बंजर जमीन को उपजाऊ बनाने का लक्ष्य घटाया

नई दिल्ली,। सरकार ने अगले दशक में बंजर जमीन को उपजाऊ बनाने के लक्ष्य में करीब 37 प्रतिशत की कटौती करते हुये इसे घटाकर 50 लाख हेक्टेयर कर दिया है। पहले यह लक्ष्य 80 लाख हेक्टेयर तय किया गया था। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने जमीन को बंजर बनने से रोकने के संबंध में स्थापित संयुक्त राष्ट्र के सम्मेलन (यूएनसीसीडी) के सदस्य देशों की 14वीं शिखर बैठक के बारे में जानकारी देने के लिए मंगलवार को बुलाये गये संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा “देश की 29 प्रतिशत जमीन बंजर हो चुकी है। इसके कई कारण हैं। इनमें जमीनों का अत्यधिक दोहन, पशुओं द्वारा अत्यधिक चरा जाना, जलजमाव, हवा के कारण मृदा अपक्षरण और बाढ़ शामिल हैं। हमने 2030 तक 50 लाख हेक्टेयर बंजर भूमि को पुन: उपजाऊ बनाने का लक्ष्य रखा है।” उल्लेखनीय है कि “बॉन चैलेंज” के तहत भारत ने वर्ष 2020 तक एक करोड़ 30 लाख हेक्टेयर बंजर भूमि को उपजाऊ बनाने का लक्ष्य रखा था। वर्ष 2021 से 2030 के बीच अतिरिक्त 80 लाख हेक्टेयर बंजर जमीन को उर्वर बनाने का भी लक्ष्य रखा गया था। इस संबंध में पूछे जाने पर श्री जावड़ेकर ने स्पष्ट किया कि 50 लाख हेक्टेयर बंजर जमीन को उपजाऊ बनाने का लक्ष्य वर्ष 2021 से 2030 के दशक के लिए है। लक्ष्य कम किये जाने का सवाल हालांकि वह टाल गये।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *