बुलंदशहर: भारत सरकार ने उद्यमियों और व्यापारियों के आयकर सम्बन्धी समस्याओं के निस्तारण करने के लिए वित्त मंत्रालय के आयकर विभाग की एक नई योजना विवाद से विश्वास तक शुरू की है, जिसके तहत समस्त उद्यमियों और व्यापारियों के ब्याज, पैनल्टी व आयकर सम्बन्धी समस्याओं को निबटाने की प्रक्रिया को अमल में लाया जाएगा। आये दिन देखने को मिलता है कि व्यापारियों द्वारा आयकर सम्बन्धित समस्याओं से विभाग को अवगत कराया जाता रहा है, परंतु इस तरह की समस्याओं से सम्बंधित योजना न होने की वजह से समस्याओं का निस्तारण नहीं हो पाता था। लेकिन अब भारत सरकार के वित्त मंत्रालय द्वारा सभी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए इस योजना ”विवाद से विश्वास तक” के अन्तर्गत समाधान किया जाना सुनिश्चित किया गया है। जिससे कि अब व्यापारियों को पहले से काफी राहत मिलेगी। बताते चले कि योजना के तहत उद्यमी और व्यापारियों की आयकर संबंधी ब्याज, कर व पेनल्टी संबंधित समस्त अपील को ध्यान में रखते हुए एक छूट की योजना आरंभ की है। उद्योग व्यापार मंडल नरेंद्र अग्रवाल, बुलंदशहर के तत्वाधान में आयकर विभाग द्वारा उपयुक्त योजना के क्रियान्वयन हेतु एक कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। जिसकी मुख्य अतिथि श्रीमती सीमा राज (प्रधान आयकर आयुक्त) एवं विशिष्ट अतिथिअनिल शर्मा (अपर आयकर आयुक्त) रहेंगे। कार्यक्रम 12 मार्च 2020  को बृहस्पतिवार को समय 2:00 बजे से जिला पंचायत सभागार, कलेक्ट्रेट, बुलंदशहर में उद्योग व्यापार मंडल नरेंद्र अग्रवाल, बुलंदशहर द्वारा कराया जा रहा है। जिसमें इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, इंडस्ट्रियल एसोसिएशन बुलंदशहर, केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन, जनपद ईंट निर्माता समिति बुलंदशहर, डिक्की नार्थ, स्टील हार्डवेयर एंड सेनेटरी एसोसिएशन, जनरल मर्चेंट डिस्ट्रीब्यूटर एसोसिएशन, आर्किटेक्ट एसोसिएशन, ज्वेलर्स एसोसिएशन, सीबीएसई एजुकेशन बोर्ड एसोसिएशन, पेट्रोलियम डीलर एसोसिएशन के सभी पदाधिकारी एवं सदस्य भी उपस्थित रहेंगे। उधोग व्यापार मंडल द्वारा सभी उद्यमी एवं व्यापारियों से अनुरोध किया गया है कि कार्यक्रम में समयानुसार पहुंचने के लिए कहा गया है, जिससे कि सभी व्यवसायिओं, उद्यमियों व व्यापारियों द्वारा कार्यक्रम में उपस्थित होकर योजना का अधिकतम लाभ उठाया जा सके व योजना के अंतर्गत आने वाली किसी भी विशेष योजना से कोई व्यापारी वंचित न रहने पाए। जिला मीडिया प्रभारी संजय गोयल ने ये भी बताया है कि कार्यक्रम में आने के लिए सीट सीमित होने के कारण पहले से सीटें बुक करा ली जाएं। जिससे की किसी भी पदाधिकारी द्वारा किसी समस्या का सामना न करना पड़े।

Spread the love

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.