-नोएडा में 4 और गाजियाबाद में 2 कोरोना के नए मामले मिले
-दिल्ली-यूपी सीमा पुरी तरह सील

गाजियाबाद: केंद्र सरकार द्वारा घोषित लॉक डाऊन के 7वें दिन रविवार का दिन प्रशासन और सरकार के लिए कुछ राहत भरा साबित हुआ। सड़कों पर प्लायन करने वालों की भीड़ कम दिखाई दी। दिल्ली सीमा से लगे जनपद गाजियाबाद और गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने राहत केंद्र ओर अश्रय स्थल खोल दिए है। प्रशासन स्वयं सेवी संस्थाओं के साथ भुखे लोगों को खाना और ठहरने की व्यवस्था प्रदान कर रहा है। प्लायन कर रहे यात्रियों के लिए सरकार ने अतिरिक्त बसों की व्यवस्था की है। जिला प्रशासन ने रविवार को दिल्ली-उत्तर प्रदेश सीमा को पुरी तरह सील कर दिया। आज सुबह कौशांबी, आनंद विहार और लाल कुआ बस अड्डे को खाली करवा दिया है। हालांकि दोपहर को हरियाणा रोडवेज की बसों के कारण लाल कुंआ पर प्लायन कर रहे यात्रियों का जमावड़ा लग गया।

हरियाण रोडवेज से ली गई 600 बसें
उत्तर प्रदेश सरकार ने दिल्ली से पैदल अपने गंत्वय स्थान जा पैदल जा रहे लोगों के लिए हरियाण सरकार से 600 बसों का प्रबंध किया है। इन बसों का खर्च उत्तर प्रदेश सरकार वहन करेगी। इसके लिए करीब 1 हजार से बसे उत्तर प्रदश राज्य सड़क परिवहन निगम (यूपीएसआरटीसी) ने भी सड़कों पर उतारी है, जो जिला प्रशासन के निर्देशन में संचालित की जा रही है।

प्रशासन ने नोएडा और गाजियाबाद में बनाए व्यकल्पिक आश्रय स्थल और रसोई
दिल्ली से प्लायन कर रहे यात्रियों ओर गरीब निराश्रय लोगों के लिए प्रशासन और कई समाजसेवी संस्थाओं ने भी मदद को हाथ बढ़ाए है। ऐसे लोगों के लिए गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने 11 समुदायिक रसाेई एवं राहत केंद्र और 18 आश्रय स्थल बनाए है। इसके अलावा नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस वें प्राधिकरण भी अपने स्तर से सेनेटाईजेशन औरलोगों की मदद के काम में अपना योगदान दे रहे है। शनिवार का दिन जहां दिल्ली समेत उत्तर प्रदेश सरकार और गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर के जिला प्रशासन के लिए कठिन चुनाती वाला साबित हुआ वहीं रविवार को दोनों तरफ के प्रशासन और पुलिस के लिए काफी राहत भरा रहा है। अगर दिल्ली के आनंद विहार की बात करें तो शनिवार की आपेक्षा रविवार को प्लायन करने वाले पूर्वांचल और बिहार जाने वाले यात्रियों संख्या काफी कम रही।

हालांकि रविवार को भी दिल्ली के प्लायन करने वाले लोग सड़कों पर पैदल जाते नजर आए। इस दौरान दिल्ली से कानपुर की तरफ पैदल जा रहे एक दिहाड़ी मजदूर ने बताया कि वह दिल्ली में काम करता था। लॉक डाऊन के कारण काम नहीं है। रहने का ठिकाना नहीं है। एैसे में दिल्ली रहकर क्या करें। परिवार के लोग चंतित और डरे हुए है। इसी तरह कई अन्य लोगों ने भी कुछ इसी तरह की समस्या बताई।

बीते 24 घंटे में गौतमबुद्ध नगर में 4 और गाजियाबाद में 2 कोरोना पाजिटीव मिले
गाजियाबाद में दो और गौतबुद्ध नगर में 4 कोरोना पाजिटीव मिले इसके बाद गौतमबुद्ध नगर में कोरोना वायरेस से संक्रमित मरीजों की संख्या 31 हो गई है। जबकि गाजियाबाद में यह संख्या अभी 21 बताई गई है। गाजियाबाद के जिला अधिकारी अजय शंकर पाण्डेय के मुताबिक शनिवार की शाम जनपद में कोराेना वायरस के दो मरीज मिले है। इसके बाद माेहन नगर की सोवियर सोसायटी को सील कर दिया गया है। इसी तरह नोएडा की पारस हाउसिंग सोसायटी को 21 मार्च तक के लिए सील कर दिया गया है।

प्रशासन ने बनाए व्यकल्पिक आश्रय स्थल और रसाेई घर
डीएम के मुताबिक जिला शासन ने गरीब और निराश्रय लोग और दिल्ली से पैदल यात्रा करने वालों को राहत देने का काम किया है। इसके लिए शहर की सीमा में बने सामुदायित केंद्र और अन्य स्थानों पर व्यकल्पिक अश्रय स्थल और समुदायिक रसोई एवं राहत केंद्र बनाए है। जिला प्रशासन के मुताबकि दिल्ली सीमा के नजदीक कौशांबी और वैशाली के सेक्टर 1 में जीडीए द्वारा निर्मित सामुदयिक भवनों को आश्रय स्थल में तब्दित किया गया है। इसके अलावा वैशाली मेट्रों स्टेशन स्टेशन पर बनी पार्किंग में अस्थाई रसोई की व्यवस्था की गई है। इसी तरह नोएडा और ग्रेटर में भी प्राधिकरणों के सामुदायिक केंद्रों को आश्रय स्थल के रूप में प्रयोग किया जा रहा है। डीएम नोएडा बीएन सिंह के मुताबकि जिला प्रशासन ने 28 स्थानों पर आश्रय स्थल बनाए है, जिनमे करीब 7 हजार लोगों के ठहराने की व्यवस्था है।

आईजी जोन ने किया जनपद का दौरा
शनिवार को प्लायन कर रहे यात्रियों की भीड़ के समाचारों के बाद रविवार को मेरठ रेंज के आईजी प्रशांत कुमार ने गाजियाबाद का दौरान किया। उन्होंने दिल्ली के आनंद विहार-कौशांबी बॉर्डर पर सुरक्षा बंदोबस्त का जायजा लिया। आईजी ने दिल्ली से सीमा में प्रवेष करने वालों से सख्ती से निपटने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। आई के साथ मौजूद डीएम गाजियाबाद ने बताया कि जाे यात्री गाजियाबाद में रूकना चाहता है उसके लिए जिला प्रशासन ने सभी व्यवस्था की है।

Spread the love

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.