reserve bank of india

मुंबई । रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर बी पी कानूनगो ने कहा है कि मसाला बांड की लोकप्रियता बढ़ाने के लिये और नीतिगत कदम उठाने की जरूरत है।मसाला बांड वैसे बांड को कहा जाता है जहां कंपनियां विदेशों में रुपये में धन जुटाने के लिये जारी करती हैं। सिंगापुर में 10 अगस्त को विदेशी मुद्रा कारोबारियों के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कानूनगो ने बढ़ते व्यापार तनाव को देखते हुए बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच समन्वित कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिये तत्काल प्रयास करने का आह्वान किया। उनके भाषण की कॉपी को आरबीआई ने अपनी वेबसाइट पर सोमवार को डाला। मसाला बांड के बारे में उन्होंने कहा कि वैश्विक निवेशकों ने रुपये में जारी इस संपत्ति को लेकर रूचि दिखायी है। कानूनगो ने कहा, ‘‘यह प्रवृत्ति को गति देने के लिये नीतिगत पहल करने की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा कि ऐसे बांड से विदेशी मुद्रा का प्रवाह सुनिश्चित होगा और मुद्रा विनिमय दर के जोखिम से निर्गमर्ता को संरक्षण भी मिलेगा। व्यापार युद्ध के बारे में उन्होंने कहा कि अमेरिका तथा चीन के बीच जारी विवाद के शीघ्र निपटान की कोई संभावना नहीं है और न ही इसके बढ़ने की आशंका है। हालांकि आरबीआई के डिप्टी गवर्नर ने कहा कि दुनिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच विवाद वैश्विक नरमी को बढ़ा रहा है। इसके अलावा ब्रेग्जिट को लेकर समझौता नहीं होना तथा खाड़ी क्षेत्र में भू-राजनीतिक तनाव अन्य जोखिम हैं।

Spread the love

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.