मुंबई । भारतीय क्रिकेट टीम ने मेजबान इंग्लैंड को 36 रनों से हराकर पहली टी-20 दिव्यांग विश्व क्रिकेट सीरीज अपने नाम कर ली. टीम के कप्तान विक्रांत किणी का उनके गांव पालघर के तारापुर कंबोडा पहुँचने का बाद लोगों ने फूल माला पहनाकर, उनका भव्य स्वागत किया. लोगों का आभार जताते हुए किणी ने युवा पीढ़ी के लिए काम करने की बात कही है. विक्रांत किणी कंबोडा के एक गरीब मछुवारे परिवार से है.

किणी दिव्यांगता को मात देकर क्रिकेट के शिखर तक पहुँचे है. उल्लेखनीय है,कि भारत ने इंग्लैंड के न्यू रोड स्टेडियम में खेले गए फाइनल में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवरों में सात विकेट पर 180 रन का विशाल स्कोर बनाया. भारतीय टीम की ओर से मध्य क्रम के बल्लेबाज आर जी सांटे ने 34 गेंदों पर 53 रन की शानदार पारी खेली. उनके अलावा सलामी बल्लेबाज केडी फनासे ने 36, कैप्टन विक्रांत केनी ने 29 और एस. महेंद्र ने 33 रनों का योगदान दिया.भारत से मिले 181 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम निर्धारित 20 ओवरों में नौ विकेट पर 144 रन ही बना सकी. भारत के लिए एस गोयत और केडी फांसे ने दो-दो विकेट चटकाए जबकि इंग्लैंड के लिए ए ब्राउन ने सबसे ज्यादा 44 रन बनाए.

Spread the love

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.