बाढ़ प्रभावित इलाकों में व्यापक सफाई अभियान जारी

नई दिल्ली, । देश के विभिन्न राज्यों के बाढ़ प्रभावित इलाकों में पानी उतरने के बाद बीमारी या महामारी फैलने से रोकने के लिये व्यापक सफाई अभियान शुरू किया गया है। पंजाब में बाढ़ का पानी उतरने के बाद प्रभावित गांवों में कूड़ा-कर्कट हटाने के लिए नगर निगमों के सैंकड़ों सफाई कर्मचारियों के साथ साथ ट्रैक्टर-ट्रालियाँ और अन्य मशीनरी लगाई गई है। अफसरों की निगरानी में सभी गाँवों में सेनिटेशन टीमें बनाईं गई हैं ताकि महामारी के फैलने की रोकथाम के लिए सफाई सुनिश्चित की जा सके।

सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि सफाई टीमों की ओर से बाढ़ के पानी के साथ आये कीचड़, गंदगी, वनस्पति, प्लास्टिक वेस्ट आदि साफ की जा रही है और इन गाँवों में पिछले कुछ दिनों से दिन में दो बार फौगिंग भी की जा रही है। प्रवक्ता के अनुसार अधिकांश गाँवों में बाढ़ों के पानी का स्तर कम हो गया है जिस कारण सफाई मुहिम चलाना आसान हो गया है और सरकार बाढ़ प्रभावित गाँवों में हालात सामान्य करने के लिए ठोस प्रयास कर रही है।

इस बीच आठ अगस्त के बाद भारी बारिश के कारण बाढ़ एवं भूस्खलन से प्रभावित हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड समेत हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पूर्व मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, ओडिशा, अंडमान निकोबार द्वीप समूह, गुजरात, सौराष्ट्र, कच्छ, तटीय और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी, कराईकल और केरल में अलग-अलग स्थानों पर अगले 12 घंटे के दौरान तेज बारिश होने के आसार हैं। मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण पश्चिम मानसून पश्चिम राजस्थान में अति सक्रिय रहा जबकि सौराष्ट्र, कच्छ और केरल में सक्रिय रहा। बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, जम्मू कश्मीर, मराठवाड़ा, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और उत्तर आंतरिक कर्नाटक में मानसून कमजोर पड़ गया है। इसके अलावा पश्चिम मध्य और दक्षिण-पश्चिम अरब सागर, बंगाल की पूर्व-मध्य खाड़ी और अंडमान निकोबार द्वीप समूह में 45-55 किमी प्रति घंटे की तेज रफ्तार से हवा चल सकती है। मछुआरों को इस दौरान समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गयी है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *