इस्लामाबाद,। पाकिस्तान ने वित्तीय कार्रवाई बल (एफएटीएफ) को अपनी 27 सूत्री कार्य योजना पर अनुपालन रिपोर्ट सौंप दी है। यह रिपोर्ट ऐसे समय में सौंपी गई है जब वर्तमान में चल रहे तीन अलग-अलग मूल्यांकनों से अक्टूबर तक उसके धन शोधन रोधी निगरानी संस्था की ग्रे सूची से बाहर निकलने की संभावना का पता चलेगा। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने ‘डॉन’ को बताया कि एफएटीएफ से क्षेत्रीय रूप से संबद्ध एशिया-प्रशांत समूह वित्तीय और बीमा सेवाओं के सभी क्षेत्रों में अपनी प्रणालियों को उन्नत करने पर पाकिस्तान की प्रगति का पांच वर्षीय मूल्यांकन कर रहा है। यह मूल्यांकन कैनबरा (ऑस्ट्रेलिया) में किया जा रहा है। यह प्रक्रिया धन शोधन और आतंकवाद के वित्त पोषण पर एफएटीएफ के साथ प्रतिबद्धताओं पर पाकिस्तान के प्रदर्शन से प्रत्यक्ष तौर पर जुड़ी नहीं है लेकिन उसकी आकलन रिपोर्ट ग्रे सूची से बाहर निकलने की देश की संभावनाओं पर अप्रत्यक्ष रूप से असर डाल सकती है। अखबार ने बताया कि स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के गवर्नर बाकिर रजा की अगुवाई में पाकिस्तान द्वारा पेश आकलन 23 अगस्त को समाप्त होगा। जून में पेरिस स्थित एफएटीएफ ने कहा था कि पाकिस्तान आतंकवाद के वित्त पोषण पर अपनी कार्य योजना पूरी करने में नाकाम रहा। उसने इस्लामाबाद को अक्टूबर तक अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करने या फिर कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहने की चेतावनी दी थी। कार्रवाई के तहत उसे काली सूची में डाला जा सकता है।

Spread the love

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.