बाघ संरक्षण

नई दिल्ली, 31 जुलाई। लोकसभा में असम के काजीरंगा तथा मध्य प्रदेश के पन्ना बाघ संरक्षण अभयारण्य में बाघों के मुक्त विचरण को बढ़ावा देने के लिए विशेष पैकेज देने की बुधवार को मांग की गयी।

कांग्रेस के गौरव गोगोई तथा भारतीय जनता पार्टी के गणेश सिंह ने शून्यकाल में यह मामला उठाया। उन्होंने कहा कि आज ‘फोरेस्ट रेंजर डे’ है और हाल ही में सामने आए सर्वेक्षण में देश में बाघों की संख्या दुनिया में सर्वाधिक बताई गयी है इसके लिए उन्होंने सरकार को तथा वन अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई दी है।

श्री गोगोई ने कहा कि असम के काजीरंगा में बाढ़ के कारण बाघों के आसियाने बिखर गये हैं और वे इधर-उधर भटक रहे हैं। हाल ही में इसी कारण से एक बाघ जंगल में बाढ़ के पानी से बचने के लिए भटकता हुआ एक घर में घुसकर आराम करने लगा था। उन्होंने कहा कि हर साल ब्रह्मपुत्र में बाढ़ के कारण काजीरंगा में यही हाल होते हैं इसलिए इस क्षेत्र में बाघों को बाढ़ के कहर से बचाने के लिए ऊंचाई वाले क्षेत्रों के निर्माण के वास्ते अलग से पैकेज देने की व्यवस्था की जानी चाहिए।

श्री सिंह ने मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व का मामला उठाया और कहा कि देश में 2967 बाघ सर्वेक्षण में मिले हैं जिनमें सबसे ज्यादा 526 पन्ना अभयारण्य में हैं। उन्होंने कहा कि श्वेत बाघों के लिए मशहूर इस क्षेत्र के विकास के वास्ते पायलेट प्रोजेक्ट चलाया जाना चाहिए।

Spread the love

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.