CG power & industrial solution

नई दिल्ली । बिजली उपकरण विनिर्माता सीजी पावर एंड इंडस्ट्रियल सॉल्यूशंस लिमिटेड के शेयरधारक और ऋणदाता कंपनी के चेयरमैन गौतम थापर को पद से हटाना चाहते हैं। घटनाक्रम से जुड़े करीबी सूत्रों ने कहा कि एक जांच में कंपनी में करोड़ों रुपये का कथित वित्तीय घोटाला सामने आने के बाद यह स्थिति उभरी है। कंपनी ने 20 अगस्त को शेयरबाजारों को बताया कि कंपनी के निदेशक मंडल द्वारा बिठाई गयी जांच में कंपनी के कामकाज को लेकर बड़ी गड़बड़ियां और वित्तीय कोताही सामने आयी है। इसमें कुछ परिसंपत्तियों को रेहन पर रखे जाने और कंपनी के कुछ गैर-कार्यकारी निदेशकों समेत पूर्व एवं मौजूदा कर्मचारियों द्वारा ऋण के पैसे के गबन के मामले शामिल हैं। निदेशक मंडल ने ‘कुछ संदिग्ध, अनाधिकृत और अघोषित लेनदेन’ को लेकर लंबित जांच के चलते 10 मई को कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक के. एन. नीलकंठ को छुट्टी पर भेज दिया था।

जबकि थापर कंपनी के चेयरमैन के तौर पर बने हुए हैं। सूत्रों ने बताया कि कुछ निवेशकों के कहने पर यह जांच शुरू की गयी और अब वह थापर एवं नीलकंठ को उनके पद से हटाना चाहते हैं ताकि कंपनी के कामकाज में सफाई लायी जा सके। निवेशकों ने घोटाले को लेकर थापर को एक ई-मेल भेजा है जिसका जवाब अभी तक नहीं मिला है। कंपनी के निवेशकों और ऋणदाताओं को लगता है कि कथित अनियमितताओं का कंपनी पर (छवि पर) भार बहुत अधिक बढ़ गया है। सूत्रों ने बताया कि कंपनी के निदेशक मंडल के पास चेयरमैन को हटाने की शक्ति है और आने वाले हफ्तों में जब यह हो जाएगा तो किसी स्वतंत्र निदेशक को गैर-कार्यकारी चेयरमैन बनाया जाएगा। लेकिन वह निदेशक मंडल में बने रहेंगे क्यों कि वहां से उन्हें शेयरधारक ही हटा सकते हैं। कंपनी दुनियाभर के 21 स्थानों पर काम करती है और उसके पास कर्मचारियों की संख्या 8,000 से अधिक है। कंपनी के 62.6 करोड़ शेयरों में से थापर के पास मात्र 8,574 शेयर हैं और केवल इसके आधार पर वह निदेशक मंडल में कोई जगह नहीं पा सकते।

Spread the love

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.