चीन-अमेरिका के बीच व्यापार वार्ता फिर शुरू

बीजिंग, 30 जुलाई । चीन और अमेरिका के बीच मंगलवार को शंघाई में व्यापार मुद्दों के समाधान के लिए बातचीत फिर शुरू हुई। दुनिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के इस बार थोड़ा नरम रुख दिखाते हुए किसी उपयुक्त समझौते पर पहुंचने की उम्मीद है। दोनों देशों के बीच इसी साल मई में पहले दौर की व्यापार वार्ता तब विफल हो गयी थी, जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन पर अपनी प्रतिबद्धताओं पर पुनर्विचार करने का आरोप लगाया था। उसके बाद यह दोनों देशों के बीच होने वाली पहली आमने-सामने की बैठक है। अमेरिका और चीन दोनों ने ही एक-दूसरे के खिलाफ कड़े शुल्क लगाने का रुख अख्तियार किया हुआ है। इसकी जद में दोनों पक्षों का कुल 360 अरब डॉलर से अधिक का कारोबार है। साथ ही अमेरिका की मांग है कि चीन उसके यहां अमेरिकी प्रौद्योगिकी की कथित चोरी पर रोक लगाए एवं उसकी कंपनियों को अपने यहां समान मौके उपलब्ध कराए। मंगलवार-बुधवार को होने वाली इस बैठक में अमेरिका की ओर से व्यापार प्रतिनिधि राबर्ट लाइथाईजर और वित्त मंत्री स्टीवन म्नूचिन शामिल होने पहुंचे हैं। यह वार्ता ऐसे दौर में हो रही है जब चीन हांगकांग में नागरिक संघर्ष के भारी दबाव से गुजर रहा है। शंघाई में होने वाली बैठक से कुछ दिन पहले ही ट्रंप ने विश्व व्यापार संगठन में चीन से विकासशील दर्जा छीनने की धमकी दी थी। इसे चीन ने अमेरिका का अहंकार और स्वार्थ बताया था। साथ ही स्थानीय मीडिया ने कहा था कि अमेरिका व्यापार वार्ता से पहले दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है। ट्रंप ने शुक्रवार को कहा था कि उन्हें लगता है कि चीन के वार्ताकार किसी समझौते तक पहुंचने में देर करेंगे और अमेरिका में अगले साल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव का इंतजार करेंगे। यदि वह जीत गए, तो फिर चीन समझौतों पर हस्ताक्षर कर लेगा। लेकिन दोनों देशों के बीच व्यापार वार्ता की फिर शुरुआत को सकारात्मक दृष्टि से देखा जा रहा है, भले ही इसके बहुत सीमित परिणाम आने की उम्मीद क्यों ना हो? मई में वार्ता विफल होने के बाद जून में जी-20 देशों की बैठक में ट्रंप और उनके चीनी समकक्ष शी चिनफिंग के बीच बातचीत फिर शुरू करने को लेकर सहमति बनी थी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *