indian share market

मुंबई । विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) पर बढ़ा हुआ अधिभार वापस होने और बैंकों को एकमुश्त पूंजी उपलब्ध कराने के बाद सोमवार को शेयर बाजार ने 793 अंक की छलांग लगा ली। बैंकों के शेयरों की अगुवाई में बाजार में तेजी का रुख रहा। बंबई शेयर बाजार का 30- शेयरों पर आधारित सेंसेक्स सोमवार को 1,052 अंक तक बढ़ने के बाद कारोबार की समाप्ति पर 792.96 अंक यानी 2.16 प्रतिशत बढ़कर 37,494.12 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान सेंसेक्स ऊंचे में 37,544.48 अंक और नीचे में 36,492.65 अंक तक आया। इसी प्रकार नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी एक बार फिर से 11,000 अंक के स्तर से ऊपर निकल गया। निफ्टी 228.50 अंक यानी 2.11 प्रतिशत बढ़कर 11,057.85 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह ऊंचे में 11,070.30 अंक और नीचे में 10,756.55 अंक तक आया। सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ने आज एक ही दिन के कारोबार में 20 मई के बाद की सबसे ऊंची बढ़त दर्ज की है। सेंसेक्स में शामिल शेयरों में येस बैंक के शेयर में सबसे ज्यादा लाभ दर्ज किया गया। इसके बाद एचडीएफसी, बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, लार्सन एण्ड टुब्रो, स्टेट बैंक, एक्सिस बैंक और कोटक बैंक के शेयर मूल्य में 5.24 प्रतिशत तक वृद्धि दर्ज की गई। इसके विपरीत टाटा स्टील, सन फार्मा, हीरो मोटोकार्प, वेदांता, रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा मोटर्स, मारुति सुजूकी और बजाज आटो का शेयर 2.01 प्रतिशत गिर गया। कारोबारियों का कहना है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा चीन से आयातित सामान पर और शुल्क लगाये जाने के बाद व्यापार युद्ध तेज होने की आशंका में एशियाई बाजारों में गिरावट का रुख रहा। शंघाई कंपाजिट इंडेक्स, हेंग सेंग, कास्पी और निक्केई सूचकांक काफी घटकर बंद हुये। हालांकि, बाद में ट्रंप ने कहा कि अमेरिका और चीन के व्यापार वार्ताकारों की जल्द ही बैठक होगी। ट्रंप ने दोनों आर्थिक महाशक्तियों के बीच व्यापार युद्ध में इसे एक अहम सफलता बताया।

Spread the love

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.