Money profit

नई दिल्ली । कौशल विकास से जुड़ी कंपनी एनआईआईटी लिमिटेड का एकीकृत आधार पर शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 1,090.4 करोड़ रुपये रहा। कंपनी के निदेशक मंडल ने 335 करोड़ रुपये के शेयरों की पुनर्खरीद को मंजूरी दे दी है।आलोच्य तिमाही में कंपनी की शुद्ध आय दो प्रतिशत घटकर 210.30 करोड़ रुपये रह गयी। पिछले साल अप्रैल-जून तिमाही में यह आंकड़ा 214.3 करोड़ रुपये रहा था।एनआईआईटी लिमिटेड को 2018 में अप्रैल-जून तिमाही में 17.9 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। कंपनी ने कहा है कि एनआईआईटी टेक्नोलॉजीज में एनआईआईटी लिमिटेड की 30 प्रतिशत हिस्सेदारी की बिक्री से हुई एकमुश्त आय से जून, 2019 में कंपनी के शुद्ध लाभ में यह भारी उछाल दर्ज किया गया।इस साल अप्रैल में बेरिंग प्राइवेट इक्विटी एशिया ने एनआईआईटी लिमिटेड से एनआईआईटी टेक्नोलॉजीज में उसकी 30 प्रतिशत की हिस्सेदारी खरीदी थी। इस सौदे से एनआईआईटी लिमिटेड को 2,020.4 करोड़ रुपये हासिल हुए। कंपनी ने इस धन राशि के इस्तेमाल की सिफारिश के लिए एक समिति का गठन किया था।कंपनी निदेशक मंडल ने शेयरधारकों के 2.68 करोड़ इक्विटी शेयरों को 125 रुपये प्रति शेयर की दर से पुनर्खरीद को मंजूरी दे दी है। एनआईआईटी के वाइस चेयरमैन और प्रबंध निदेशक विजय के थडानी ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि पुनर्खरीद की प्रक्रिया इस साल दिसंबर तक पूरी हो जाएगी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.