नई दिल्ली, 01 अगस्त । कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आज भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के महासचिवगण, कोषाध्यक्ष व प्रभारीगण की एक बैठक अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रांगण में हुई। हर कांग्रेसजन और देशवासी के लिए यह साल दो मायनों में बहुत महत्वपूर्ण है। भारत रत्न स्वर्गीय राजीव गांधी जी की 75वीं जन्म जयंती इसी 20 अगस्त को आने वाली है और महात्मा गांधी जी की 150वीं जयंती भी इसी साल 2 अक्टूबर से शुरु हो जाएगी, इसलिए इस देश के करोड़ों लोगों, खासतौर से कांग्रेस जनों के लिए ये वर्ष बहुत महत्वपूर्ण है।

इस बैठक में सबसे पहले हमारे दो दिवंगत नेताओं शीला दीक्षित और जयपाल रेड्ड़ी को श्रद्धांजलि दी गई और उसके बाद यह निर्णय लिया गया कि 20 अगस्त को जो राजीव की 75 वीं जन्म जयंती है, उस दिन हर प्रांतीय हैडक्वार्टर पर, समेत राष्ट्रीय राजधानी में एक भव्य कार्यक्रम होगा। राजीव गांधी कौन थे, देश के प्रधानमंत्री के साथ-साथ राजीव गांधी स देश के इतिहास के पन्नों में अंकित हैं, एक ऐसे व्यक्ति और प्रधानमंत्री के तौर पर जिन्होंने इस देश में करोड़ों लोगों को प्रजातंत्र का हिस्सा बनने का अधिकार दिया, पंचायती राज संस्थाओं, जिला पंचायतों, नगरपालिओं, नगरपरिषदों और म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के माध्यम से।

खासतौर से इस देश में पहली बार महिलाओं को आरक्षण, पिछड़े वर्गों को आरक्षण, पचायंती राज और म्युनिसिपल संस्थाओं में पहली बार राजीव गांधी द्वारा संविधान संशोधन कर पंचायतों, नगरपालिकाओं को संवैधानिक दर्जा दिया, इस बात के लिए वो सदैव जाने जाएंगे। राजीव गांधी वो थे जिन्होंने इस देश की एकता, समरसता और अखण्डता के लिए तीन ऐसे राज्य, दो उत्तर पूर्व के और एक उत्तर का, जहाँ उग्रवाद की आग से जनता झुलस रही थी और कई बार ये कयास लगाए जाते थे कि कहीं देश के ये हिस्से टूट ना जाएं। उन सबको दोबारा मुख्य़धारा में राजीव शांति स्थापित कर लेकर आए, असम एकोर्ड, मिजोरम एकोर्ड और पंजाब शांति समझौते के माध्यम से।

सुरजेवाला ने कहा कि राजीव ने इस देश में युवाओं को नई ऊर्जा, नया महत्व, नया स्थान और लीडरशिप के नए आयाम पैदा किए। ना केवल वोटिंग एज 21 से 18 साल की, परंतु इस देश के युवाओं को नेतृत्व में महत्वपूर्ण स्थान मिले, ये उन्होंने सुनिश्चित किया और देश के युवाओं को कहा कि आईए आगे बढ़िए और राष्टीय निर्माण में आपकी सबसे अहम भूमिका है। राजीव साइंटिफिक टेंपर और आधुनिकता की एक नई धारणा इस देश में लेकर आए, चाहे वो संचार टेलीफोन क्रांति हो, मोबाईल क्रांति हो, चाहे वो कम्प्यूटर की क्रांति हो, इन सबके जन्मदाता कहीं ना कहीं स्वयं श्री राजीव गांधी थे।

उन्होंने कहा कि एक समय था जब आज के बहुत सारे हुकमरान राजीव गांधी और उनके साथियों का ये कहकर मजाक उड़ाते थे कि ये कम्प्यूटर ब्वॉयज हैं, परंतु आज आईटी रवेल्यूशन, सॉफ्टवेयर रवेल्यूशन, टेलीकोम रवेल्यूशन उसने इस देश का नक्शा बदल कर रख दिया और वो सदैव इस बात के लिए जाने जाएंगे। आज कितने लोग ये याद करते हैं कि सॉफ्टवेयर को बिजनेस का दर्जा, व्यवसाय का दर्जा पहली बार राजीव गांधी ने दिया। आज ये देश दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सुपर पॉवर है और 21 वीं सदी में भारत को दुनिया की सबसे बड़ी ताकत बनाने का स्वप्न और रास्ता वो दोनों राजीव गांधी ने तैयार किए थे। ये थे राजीव गांधी और इसलिए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने ये निर्णय किया है कि ये पूरा वर्ष राजीव गांधी जो आज की आधुनिकता, साइंटिफिक टेंपर, मॉर्डनाइजेशन, यूथ लीडरशिप और गरीबों, पिछड़ों, महिलाओं को एमपॉवर करने की जो मुहिम थी, जिससे वो जुड़े थे, उस तरीके से कांग्रेस और देश के लोग उन्हें याद करेंगे।

20 तारीख को हर प्रदेश के मुख्यालय पर एक बड़ा कार्यक्रम आयोजन होगा, जिसमें पार्टी के महासचिव, पार्टी के प्रभारी, प्रदेश के नेता, प्रदेश अध्यक्ष, विपक्ष के नेता, विधायकगणों के नेता, वो सब मौजूद रहेंगे और एक बड़ा कार्यक्रम 21 तारीख को राष्ट्रीय स्तर का कार्यक्रम वो भी दिल्ली में होगा और उसके बाद एक कमेटी का हम गठन करेंगे, जिसके तहत ये कार्यक्रम पूरे वर्ष कैसे चले, इसकी सरंचना और रुपरेखा भी तैयार की जाएगी।

एक प्रश्न पर कि उन्नाव मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है, सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सीबीआई पूरी डिटेल दे और आपको लगता है कि केस उत्तर प्रदेश से ट्रांसफर होना चाहिए, श्री सुरजेवाला ने कहा कि आदित्यनाथ उर्फ अजय सिंह बिष्ठ जी की सरकार चाहे वो महिला सुरक्षा हो और चाहे उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था हो, उसमें पूर्णतया फेल साबित हुई है। उन्नाव रेप पीड़िता का मामला केवल एक उत्तर प्रदेश उन्नाव और देश की बेटी का मामला नहीं, जहाँ सरकारी संरक्षण में अत्याचार हुआ, जहाँ हुकमराम यानि रक्षक भक्षक बन गए, जहाँ भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के द्वारा सरकार के संरक्षण में उन्नाव रेप पीड़िता और उनके परिवार के साथ ज्यादतियां की गई। पहले बलात्कार जैसा संगीन अपराध हुआ, उसके बाद पुलिस की कस्टडी में पिता की हत्या हुई, उसके बाद रहस्यमयी परिस्थिति में गवाह मर गए, उसके बाद जो सिक्योरिटी उस उन्नाव रेप पीड़िता को दी गई थी, वो यकायक गायब हो गई, उसके बाद कई धमकियां आई, सरकार ने कोई संज्ञान नहीं लिया। उसके बाद उल्टी तरफ से आते एक ट्रक ने, जिसने नंबर प्लेट पर कालिख पोत रखी थी, उस गाड़ी में टक्कर मारी, जिसमें परिवार के दो सदस्यों की मौत हो गई और उत्तर प्रदेश की वो बेटी आज भी जीवन और मौत के बीच में जूझ रही है। 

इसके लिए अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार, आदित्यनाथ सरकार दोषी नहीं तो कौन है? सेंगर और उसके गुंडों को संरक्षण किसने दिया, उस बेटी के ऊपर बार-बार हो रहे हमले और धमकियों को नजरअंदाज किसने किया? सीधे-सीधे आदित्यनाथ जी और उनकी सरकार ने। उनसे कोई न्याय की उम्मीद नहीं हो सकती, जैसा उस बेटी के परिवारजनों ने बार-बार कहा, जो आज धरने पर अस्पताल के बाहर बैठे हैं। ऐसे में केन्द्रीय जांच ब्यूरो जिसके पास पहले से ही मामला है, क्या वो भी सही जांच कर पाएगा, मुझे व्यक्तिगत तौर से उस पर भी शक है। उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश संज्ञान लेंगे और उन्नाव की देश की उस बेटी को न्याय कैसे मिले, भारतीय जनता पार्टी के संरक्षण वाले गुंडों से न्याय कैसे मिले, इसका निर्णय निर्णायक तौर से आज देश की सर्वोच्च अदालत कर पाएगी, ऐसी हमें जरुर उम्मीद है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.