– जनपद के 10087 मरीजों ने उठाया स्वास्थ्य सेवा का लाभ

बुलंदशहर: जिलेभर में  रविवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर  मुख्यमंत्री आयोग्य मेला लगाया गया। स्वास्थ्य मेला जनपद के लोगों की सेहत की दृष्टि से बेहद खास रहा। आयोजित स्वास्थ्य मेला में दूर दराज के इलाकों व मलिन बस्तियों में रहने वाले 10087 से अधिक लोगों की  सेहत का वरदान मिला। उसी दौरान 920 लाभर्तियों को आयुष्मान भारत के तहत गोल्डन कार्ड बनाये गए। बुलंदशहर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. केएन तिवारी ने बताया रविवार को जनपद के 8 शहरी स्वास्थ्य केंद्रों समेत कुल 71 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले के आगाज हुआ, जहां पर 10087 मरीजों को निःशुल्क जांच व इलाज की सुविधा दी गई। अपर मुख्यचिकित्सा अधिकारी डा. रोहताश यादव ने बताया मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले में सर्दी, जुखाम, मौसमी बुखार की जांच के अलावा प्रजनन स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं के साथ गर्भवती, बाल और किशोर स्वास्थ्य से जुड़ी जांच, आयुष्मान भारत योजना के गोल्डन कार्ड, कन्या सुमंगला योजना, नियमित टिकाकरण, परिवार नियोजन, संचारी रोग नियंत्रण अभियान, सहित कोरोना पर खास जोर रहा है। जिला मलेरिया अधिकारी डा. बीके श्रीवास्तव ने कहा आरोग्य स्वास्थ्य मेला के आयोजन में स्वयंसेवी योगदान के लिए निजी क्षेत्र के चिकित्सकों को भी आगे आने चाहिए। उन्होंने कहा प्रयास हो कि मेले में वह सभी सुविधाएं एक ही जगह पर लोगों को मिल जाएं जिसके लिए उन्हें बाकी दिनों में कामकाज छोड़कर अस्पतालों के चक्कर लगाने पड़ते हैं। मुख्य चिकित्साधिकारी डा. केएन तिवारी ने बताया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बेर सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिकन्द्राबाद में मुख्यमंत्री आरोग्य मेला का निरीक्षण किया। मेला में मौजूद मरीजों को संबोधित करते हुए कोरोना के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कोरोना वायरस से न घबराएं, खुद बचें और सबको बचाएं। कोरोना वायरस फ्यू जैसी बीमारी फैलती है। खुद की जागरूकता ही इसका मुख्य इलाज है। इसके अलावा यदि किसी को इसके लक्षण महसूस हों तो वह जिला अस्पताल, सिकन्द्राबाद सहित खुर्जा में आइसोलेशन वार्ड बनाएं गए हैं। उन्होंने इस दौरान झोलाछाप चिकित्सा से परहेज की अपील की है। उन्होंने बताया मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का आयोजन सुबह दस बजे से अपराह्न 2.00 बजे तक किया गया। बाल विकास द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। जहां पर उन्होंने मेला में आई किशोरी सहित गर्भवती महिलाओं को पोषण मिशन के बारे में विस्तार से जानकारी दी। मेला आये सभी मरीजों को हाथ धोने के बारे में विस्तार से जानकरी देते हुए कोरोना के बचाव के बारे में जागरूक किया।

आयुष्मान का गोल्डेन कार्ड भी बना
मुख्यमंत्री जन आरोग्य मेले में आयुष्मान भारत योजना के स्टॉल लगा कर करीब 809 लोगों के गोल्डेन कार्ड भी बनाए गए। सीएमओ ने बताया कि प्रत्येक रविवारीय स्वास्थ्य मेले में प्रयास होगा कि ज्यादा से ज्यादा केंद्रों पर कैंप लगा कर 920 लाभार्थियों को गोल्डेन कार्ड की सुविधा प्रदान की जाए।

Spread the love

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.