united-nations

अलकायदा कमजोर नहीं हुआ, लश्कर-ए-तैयबा के साथ सहयोग जारी : संयुक्त राष्ट्र रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र, 30 जुलाई । संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आतंकवादी संगठन अलकायदा कमजोर नहीं पड़ा है। रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान से संचालित लश्कर-ए-तैयबा और हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकी गुटों के साथ उसके सहयोग का सिलसिला जारी है। यूएन रिपोर्ट का कहना है कि अलकायदा के सरगना अयमन मुहम्मद अल-जवाहिरी की सेहत और उसके बाद संगठन के काम करने के तरीके को लेकर संदेह बरकरार है।

विश्लेषणात्मक समर्थन एवं प्रतिबंध निगरानी टीम की 24वीं रिपोर्ट में ये खुलासे किए गए हैं। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद अलकायदा प्रतिबंध समिति को इस माह रिपोर्ट सौंपी गई। प्रतिबंध निगरानी टीम इस्लामिक स्टेट, अलकायदा और संबंधित व्यक्तियों, समूहों, उपक्रमों और कंपनियों पर सुरक्षा परिषद को हर 6 महीने में स्वतंत्र रिपोर्ट सौंपती है। इस रिपोर्ट में कहा गया है, ‘अलकायदा कमजोर नहीं पड़ा है हालांकि उसके आका अयमन मुहम्मद रबी अल-जवाहिरी की सेहत, उसके जीवनकाल और उसके बाद संगठन के काम करने के तरीके को लेकर संदेह बरकरार है।’

रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि अलकायदा अफगानिस्तान को अपने नेतृत्व के लिए सुरक्षित पनाहगाह मानता रहा है। इसके लिए वह तालिबान के साथ अपने लंबे एवं मजबूत संबंधों पर निर्भर रहता है। रिपोर्ट में कहा गया कि तालिबान के आश्रय के तहत अलकायदा बदख्शां प्रांत, खास कर ताजिकिस्तान के साथ लगने वाले शिगनान इलाके के साथ ही पकतिका प्रांत के बारमल में अपनी मौजूदगी मजबूत करने का इच्छुक है।

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में अलकायदा के तालिबान से संबंधों का जिक्र किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, ‘अलकायदा का लश्कर-ए-तैयबा और हक्कानी नेटवर्क के साथ करीब से सहयोग करना जारी है। अलकायदा के सदस्यों का तालिबान के लिए सैन्य एवं धार्मिक निर्देशकों के तौर पर नियमित रूप से काम करना जारी है।’

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *